Mundan muhurt 2021 : शुभ मुंडन मुहूर्त वार, दिनांक, आरंभ काल, समाप्ति काल

Mundan muhurt 2021 : हिंदू धर्म में मुंडन का एक विशेष महत्व है। क्योंकि ऐसा माना जाता है। कि बच्चों के जन्म के उपरांत उसके गर्भकाल के बाल को उतार देना चाहिए इस परंपरा को ही मुंडन संस्कार के नाम से जाना जाता है। हिंदू धर्म में बच्चों का मुंडन संस्कार 3, 5 और 7 आदि वर्षों में किया जाता है। जो कि विषम वर्ष होते हैं। वही बालिकाओं का मुंडन संस्कार सम वर्ष में होता है।

Mundan muhurt 2021 : जब भी आपको अपने बच्चे का मुंडन संस्कार करना हो। तो उस संस्कार को करने के लिए किसी विद्वान पंडित या ज्योतिषी से परामर्श जरूर ले। क्योंकि शुभ मुहूर्त में ही बच्चों का मुंडन किया जाना चाहिए। क्योंकि ऐसा करने से बच्चों के लिए लाभदायक और कल्याणकारी होता है।

Mundan muhurat February 2021 (मुंडन मुहूर्त फरवरी 2021)

वारदिनांकआरंभ कालसमाप्ति काल
सोमवार22 फरवरी06:53:4910:58:12
बुधवार24 फरवरी18:07:2930:51:54
गुरुवार25 फरवरी06:50:5513:17:57

Mundan muhurat March 2021 (मुंडन मुहूर्त मार्च 2021)

वारदिनांकआरंभ कालसमाप्ति काल
बुधवार03 मार्च06:44:4924:23:44
बुधवार10 मार्च14:42:0130:37:13
गुरुवार11 मार्च06:36:0614:41:39
बुधवार24 मार्च06:21:1223:13:07
सोमवार29 मार्च20:56:3230:15:24

Mundan muhurat April 2021 (मुंडन मुहूर्त अप्रैल 2021)

वारदिनांकआरंभ कालसमाप्ति काल
बुधवार07 अप्रैल06:05:0426:30:47
सोमवार19 अप्रैल05:52:1024:02:58
सोमवार26 अप्रैल12:46:1229:45:20
गुरुवार29 अप्रैल14:30:2122:12:09

Mundan muhurt may 2021 (मुंडन मुहूर्त मई 2021)

वारदिनांकआरंभ कालसमाप्ति काल
सोमवार03 मई08:22:4113:41:39
बुधवार05 मई13:24:0329:37:35
गुरुवार06 मई05:36:4710:32:38
शुक्रवार14 मई05:44:5829:31:14
सोमवार17 मई05:29:2811:36:14
सोमवार24 मई05:26:0824:13:15
गुरुवार27 मई13:04:3622:29:55

Mundan muhurat June 2021 (मुंडन मुहूर्त जून 2021)

वारदिनांकआरंभ कालसमाप्ति काल
सोमवार21 जून05:23:3613:33:42
सोमवार28 जून14:18:2229:25:28

Mundan muhurat July 2021 (मुंडन मुहूर्त जुलाई 2021)

वारदिनांकआरंभ कालसमाप्ति काल
बुधवार07 जुलाई18:19:3027:23:00

अन्य मुहुर्त देखे

विवाह मुहूर्त
मुंडन मुहूर्त
गृह प्रवेश मुहूर्त
नामकरण मुहूर्त
अन्नप्राशन मुहूर्त
कर्णवेध मुहूर्त
विद्यारंभ मुहूर्त
उपनयन/जनेऊ मुहूर्त
सर्वार्थ सिद्धि योग
अमृत सिद्धि योग

अशुभ काल