जानिए 2020 में गृह प्रवेश के लिए कौन सा दिन शुभ है? – Griha Pravesh muhurat 2020

Griha Pravesh muhurat November 2020 (गृह प्रवेश मुहूर्त नवंबर 2020)

वारदिनांकआरंभ कालसमाप्ति काल
सोमवार16 नवंबर06:44:5214:37:36
गुरुवार19 नवंबर09:38:4522:00:59
बुधवार25 नवंबर06:52:0229:12:12
सोमवार30 नवंबर15:01:2130:55:58

Griha Pravesh muhurat December 2020 (गृह प्रवेश मुहूर्त दिसंबर 2020)

वारदिनांकआरंभ कालसमाप्ति काल
गुरुवार10 दिसंबर10:51:5331:03:17
बुधवार16 दिसंबर20:04:2831:07:08
गुरुवार17 दिसंबर07:07:4215:19:29
बुधवार23 दिसंबर20:41:1628:33:00

Griha Pravesh muhurat 2020 – गृहप्रवेश यह एक ऐसा महत्वपूर्ण और आनंदकारी क्षण होता है। जिसमें व्यक्ति अपने पूरे जीवन काल में किए हुए कड़ी मेहनत और प्रयासों का ही एक फल होता है। यह क्षण उस व्यक्ति के लिए काफी सुखमय छठ होता है। जिसके प्रयासों से घर बनता है।

इसलिए गृहप्रवेश करने के लिए शुभ मुहूर्त का होना अति आवश्यक है। क्योंकि इसको इतने प्रयास के बाद बनाना और इसमें अपना सुखी जीवन बिताना सबका चाहत होता है।

Griha Pravesh muhurat 2020 – जब शुभ घड़ी में गृह प्रवेश किया जाता है। तब उस घर में समृद्धि, खुशहाली और शांति आता है। यह इसलिए होता है। कि जब भी कोई गृह प्रवेश का शुभ मुहूर्त निकाला जाता है। तब उस समय तिथि, नक्षत्र, लग्न और वार को विशेष तौर पर देखा जाता है।

गृहप्रवेश के लिए सबसे उत्तम माह कौन से हैं?

हिंदू धर्म में गृह प्रवेश के लिए सबसे उत्तम माह माना गया है। माघ, फाल्गुन, वैशाख, ज्येष्ठ यह सबसे उत्तम माह है। अगर आप इस माह में गृह प्रवेश करते हैं। तो आपके लिए बेहद सकारात्मक परिणाम देखने को मिलेंगे।

गृहप्रवेश कौन से माह में नहीं करना चाहिए?

हिंदू धर्म में गृह प्रवेश करने के लिए कुछ शुभ माह होते हैं। और उनके साथ ही कुछ ऐसे भी माह होते हैं कि इस माह में गृह प्रवेश नहीं किया जाता है। क्योंकि अगर आप इस माह में गृह प्रवेश करते हैं। तो आपके लिए यह उत्तम नहीं रहेगा। वह माह है। आषाढ़, श्रावण, पौष, भाद्रपद और आश्विन इस माह में भगवान विष्णु के साथ सभी देवी-देवता के सायन का समय होता है।

गृहप्रवेश कौन से वार को करना चाहिए?

गृहप्रवेश को करने के लिए आप मंगलवार को और कुछ परिस्थितियों में रविवार और शनिवार को छोड़कर किसी भी वार को कर सकते हैं।

कौन सी तिथि में गृह प्रवेश करें?

गृहप्रवेश को करने के लिए आप शुक्ल पक्ष की द्वितीया, तृतीया, पंचमी, सप्तमी, दशमी, एकादशी, द्वादशी और त्रयोदशी तिथि को कर सकते हैं। यह तिथि अत्यंत शुभ तिथि माना जाता है। लेकिन अमावस्या और पूर्णिमा की तिथि को नहीं करना चाहिए।

अन्य मुहूर्त देखे :-

विवाह मुहूर्त
मुंडन मुहूर्त
गृह प्रवेश मुहूर्त
नामकरण मुहूर्त
अन्नप्राशन मुहूर्त
कर्णवेध मुहूर्त
विद्यारंभ मुहूर्त
उपनयन/जनेऊ मुहूर्त
सर्वार्थ सिद्धि योग
अमृत सिद्धि योग

आरती