आरती श्री अम्बा जी लिरिक्स – Aarti lyrics – Hindi me khabar

जय अम्बे गौरी मैया जय मंगल मूर्ति ।
तुमको निशिदिन ध्यावत हरि ब्रह्मा शिव री ॥टेक॥

मांग सिंदूर बिराजत टीको मृगमद को ।
उज्ज्वल से दोउ नैना चंद्रबदन नीको ॥जय॥

कनक समान कलेवर रक्ताम्बर राजै।
रक्तपुष्प गल माला कंठन पर साजै ॥जय॥

केहरि वाहन राजत खड्ग खप्परधारी ।

सुर-नर मुनिजन सेवत तिनके दुःखहारी ॥जय॥

कानन कुण्डल शोभित नासाग्रे मोती ।
कोटिक चंद्र दिवाकर राजत समज्योति ॥जय॥

शुम्भ निशुम्भ बिडारे महिषासुर घाती ।
धूम्र विलोचन नैना निशिदिन मदमाती ॥जय॥

चौंसठ योगिनि मंगल गावैं नृत्य करत भैरू।
बाजत ताल मृदंगा अरू बाजत डमरू ॥जय॥

भुजा चार अति शोभित खड्ग खप्परधारी।
मनवांछित फल पावत सेवत नर नारी ॥जय॥

कंचन थाल विराजत अगर कपूर बाती ।
श्री मालकेतु में राजत कोटि रतन ज्योति ॥जय॥

श्री अम्बेजी की आरती जो कोई नर गावै ।
कहत शिवानंद स्वामी सुख-सम्पत्ति पावै ॥जय॥

अन्य आरती देखें

आरती श्री लक्ष्मी जी
ॐ जय जगदीश हरे
आरती गजबदन विनायक
आरती कुंजबिहारी की
आरती श्री हनुमानजी
श्री रामायणजी की आरती
आरती श्री सत्यनारायणजी
श्री पुरुषोत्तम देव की आरती
श्री नरसिंह भगवान की आरती
श्री चित्रगुप्त जी की आरती
आरती श्री वैष्णो देवी
आरती श्री दुर्गाजी
एकादशी माता की आरती
आरती ललिता माता की
गायत्री माता आरती
रविवार आरती
बुधवार आरती
शुक्रवार आरती
शनिवार आरती
गुरुवार आरती
मंगलवार आरती
श्री खाटू श्यामजी की आरती
श्री तुलसी जी की आरती
श्री पार्वती माता जी की आरती
आरती अहोई माता की
आरती श्री गंगा जी
आरती श्री सरस्वती जी
आरती श्री गोवर्धन महाराज की
आरती श्री अम्बा जी
शनिदेव की आरती
आरती श्री सूर्य जी
शिवजी की आरती
आरती श्री रामचन्द्रजी
श्री बाँकेबिहारी की आरती
श्री गणेशजी की आरती