श्री रामायणजी की आरती लिरिक्स – Aarti lyrics – Hindi me khabar

आरती श्री रामायण जी की ।
कीरति कलित ललित सिय पी की ॥

गावत ब्रहमादिक मुनि नारद ।
बाल्मीकि बिग्यान बिसारद ॥
शुक सनकादिक शेष अरु शारद ।
बरनि पवनसुत कीरति नीकी ॥
॥ आरती श्री रामायण जी की..॥

गावत बेद पुरान अष्टदस ।
छओं शास्त्र सब ग्रंथन को रस ॥
मुनि जन धन संतान को सरबस ।
सार अंश सम्मत सब ही की ॥
॥ आरती श्री रामायण जी की..॥

गावत संतत शंभु भवानी ।
अरु घटसंभव मुनि बिग्यानी ॥
ब्यास आदि कबिबर्ज बखानी ।
कागभुशुंडि गरुड़ के ही की ॥
॥ आरती श्री रामायण जी की..॥

कलिमल हरनि बिषय रस फीकी ।
सुभग सिंगार मुक्ति जुबती की ॥
दलनि रोग भव मूरि अमी की ।
तात मातु सब बिधि तुलसी की ॥

आरती श्री रामायण जी की ।
कीरति कलित ललित सिय पी की ॥

अन्य आरती देखे

आरती श्री लक्ष्मी जी
ॐ जय जगदीश हरे
आरती गजबदन विनायक
आरती कुंजबिहारी की
आरती श्री हनुमानजी
श्री रामायणजी की आरती
आरती श्री सत्यनारायणजी
श्री पुरुषोत्तम देव की आरती
श्री नरसिंह भगवान की आरती
श्री चित्रगुप्त जी की आरती
आरती श्री वैष्णो देवी
आरती श्री दुर्गाजी
एकादशी माता की आरती
आरती ललिता माता की
गायत्री माता आरती
रविवार आरती
बुधवार आरती
शुक्रवार आरती
शनिवार आरती
गुरुवार आरती
मंगलवार आरती
श्री खाटू श्यामजी की आरती
श्री तुलसी जी की आरती
श्री पार्वती माता जी की आरती
आरती अहोई माता की
आरती श्री गंगा जी
आरती श्री सरस्वती जी
आरती श्री गोवर्धन महाराज की
आरती श्री अम्बा जी
शनिदेव की आरती
आरती श्री सूर्य जी
शिवजी की आरती
आरती श्री रामचन्द्रजी
श्री बाँकेबिहारी की आरती
श्री गणेशजी की आरती