श्री चित्रगुप्त जी की आरती लिरिक्स – Aarti lyrics – Hindi me khabar

ॐ जय चित्रगुप्त हरे,
स्वामीजय चित्रगुप्त हरे ।
भक्तजनों के इच्छित,
फलको पूर्ण करे॥

विघ्न विनाशक मंगलकर्ता,
सन्तनसुखदायी ।
भक्तों के प्रतिपालक,
त्रिभुवनयश छायी ॥
॥ ॐ जय चित्रगुप्त हरे…॥

रूप चतुर्भुज, श्यामल मूरत,
पीताम्बरराजै ।
मातु इरावती, दक्षिणा,
वामअंग साजै ॥
॥ ॐ जय चित्रगुप्त हरे…॥

कष्ट निवारक, दुष्ट संहारक,
प्रभुअंतर्यामी ।
सृष्टि सम्हारन, जन दु:ख हारन,
प्रकटभये स्वामी ॥
॥ ॐ जय चित्रगुप्त हरे…॥

कलम, दवात, शंख, पत्रिका,
करमें अति सोहै ।
वैजयन्ती वनमाला,
त्रिभुवनमन मोहै ॥
॥ ॐ जय चित्रगुप्त हरे…॥

विश्व न्याय का कार्य सम्भाला,
ब्रम्हाहर्षाये ।
कोटि कोटि देवता तुम्हारे,
चरणनमें धाये ॥
॥ ॐ जय चित्रगुप्त हरे…॥

नृप सुदास अरू भीष्म पितामह,
यादतुम्हें कीन्हा ।
वेग, विलम्ब न कीन्हौं,
इच्छितफल दीन्हा ॥
॥ ॐ जय चित्रगुप्त हरे…॥

दारा, सुत, भगिनी,
सबअपने स्वास्थ के कर्ता ।
जाऊँ कहाँ शरण में किसकी,
तुमतज मैं भर्ता ॥
॥ ॐ जय चित्रगुप्त हरे…॥

बन्धु, पिता तुम स्वामी,
शरणगहूँ किसकी ।
तुम बिन और न दूजा,
आसकरूँ जिसकी ॥
॥ ॐ जय चित्रगुप्त हरे…॥

जो जन चित्रगुप्त जी की आरती,
प्रेम सहित गावैं ।
चौरासी से निश्चित छूटैं,
इच्छित फल पावैं ॥
॥ ॐ जय चित्रगुप्त हरे…॥

न्यायाधीश बैंकुंठ निवासी,
पापपुण्य लिखते ।
‘नानक’ शरण तिहारे,
आसन दूजी करते ॥

ॐ जय चित्रगुप्त हरे,
स्वामीजय चित्रगुप्त हरे ।
भक्तजनों के इच्छित,
फलको पूर्ण करे ॥

अन्य आरती देखें

आरती श्री लक्ष्मी जी
ॐ जय जगदीश हरे
आरती गजबदन विनायक
आरती कुंजबिहारी की
आरती श्री हनुमानजी
श्री रामायणजी की आरती
आरती श्री सत्यनारायणजी
श्री पुरुषोत्तम देव की आरती
श्री नरसिंह भगवान की आरती
श्री चित्रगुप्त जी की आरती
आरती श्री वैष्णो देवी
आरती श्री दुर्गाजी
एकादशी माता की आरती
आरती ललिता माता की
गायत्री माता आरती
रविवार आरती
बुधवार आरती
शुक्रवार आरती
शनिवार आरती
गुरुवार आरती
मंगलवार आरती
श्री खाटू श्यामजी की आरती
श्री तुलसी जी की आरती
श्री पार्वती माता जी की आरती
आरती अहोई माता की
आरती श्री गंगा जी
आरती श्री सरस्वती जी
आरती श्री गोवर्धन महाराज की
आरती श्री अम्बा जी
शनिदेव की आरती
आरती श्री सूर्य जी
शिवजी की आरती
आरती श्री रामचन्द्रजी
श्री बाँकेबिहारी की आरती
श्री गणेशजी की आरती