आरती श्री हनुमानजी लिरिक्स – Aarti lyrics – Hindi me khabar

आरती कीजै हनुमान लला की
आरती कीजै हनुमान लला की

दुष्ट डलन रघुनाथ कला की
(आरती कीजै हनुमान लला की)
(आरती कीजै हनुमान लला की)

जाके बल से गिरिवर कांपे
रोग दोष जाके निकट न झांपे
अनजनी पुत्र महाबलदायी

संथन के प्रभु सदा सुहाई
(आरती कीजै हनुमान लला की)
(आरती कीजै हनुमान लला की)

दे बीरा रघुनाथ पठाए
लंका जारी सिया सुध लाए
(लंका सो कोट समुद्र सी खाई)
(जात पवनसुत बार न लाई)

लंका जारी असुरसंगारे
सियारामजी के काज संवारे

लक्ष्मण मूर्छित पड़े सकारे
आणि सजीवन प्राण उबारे
(पैठी पताल तोरि जम कारे)
(अहिरावण की भुजा उखाड़े)

बाएं भुजा असुरदल मारे
दाहिने भुजा संतजन तारे

सुर-नर-मुनि आरती उतारे
जै जै जै हनुमान उचारे

जो हनुमान की आरती गावै
बसी बैकुंठ परमपद पावै
(आरती कीजै हनुमान लला की)
(आरती कीजै हनुमान लला की)
(आरती कीजै हनुमान लला की)
(आरती कीजै हनुमान लला की)

अन्य आरती देखे

आरती श्री लक्ष्मी जी
ॐ जय जगदीश हरे
आरती गजबदन विनायक
आरती कुंजबिहारी की
आरती श्री हनुमानजी
श्री रामायणजी की आरती
आरती श्री सत्यनारायणजी
श्री पुरुषोत्तम देव की आरती
श्री नरसिंह भगवान की आरती
श्री चित्रगुप्त जी की आरती
आरती श्री वैष्णो देवी
आरती श्री दुर्गाजी
एकादशी माता की आरती
आरती ललिता माता की
गायत्री माता आरती
रविवार आरती
बुधवार आरती
शुक्रवार आरती
शनिवार आरती
गुरुवार आरती
मंगलवार आरती
श्री खाटू श्यामजी की आरती
श्री तुलसी जी की आरती
श्री पार्वती माता जी की आरती
आरती अहोई माता की
आरती श्री गंगा जी
आरती श्री सरस्वती जी
आरती श्री गोवर्धन महाराज की
आरती श्री अम्बा जी
शनिदेव की आरती
आरती श्री सूर्य जी
शिवजी की आरती
आरती श्री रामचन्द्रजी
श्री बाँकेबिहारी की आरती
श्री गणेशजी की आरती